काशी की बेटी को न्याय दो ‘ के शीर्षक से काशी रेलवे स्टेशन पर शुरू किया गया हस्ताक्षर अभियान – दख़ल संगठन

0
13

काशी की बेटी को न्याय दो ‘ के शीर्षक से काशी रेलवे स्टेशन पर शुरू किया गया हस्ताक्षर अभियान – दख़ल संगठन द्वारा बांटे गए पर्चे

गला दबाकर मार डाली गई काशी की बेटी को न्याय दो ‘ के शीर्षक से काशी रेलवे स्टेशन पर शुरू किया गया हस्ताक्षर अभियान, दख़ल संगठन द्वारा बांटे गए पर्चे

महोदय, आज दिनाँक 20 अगस्त 2023 को काशी रेलवे स्टेशन पर ‘ गला दबाकर मार डाली गई काशी की बेटी को न्याय दो ‘ के शीर्षक से शुरू किया गया हस्ताक्षर अभियान।

बनारस शहर में प्रमुख चौराहों और सार्वजनिक जगहों पर लोगों में मृतक बच्ची के समर्थन में पर्चा वितरण करके हस्ताक्षर अभियान चलाया जाएगा।

ज्ञातव्य है कि चंदौली जिला निवासी बनवासी परिवार रोज की तरह जंगल से पत्ता बीनकर बनारस बेचने आया था। शाम को लेट हो जाने पर स्टेशन पर रुक गए थे।चौदह अगस्त की रात दो बजे बेटी को पास न पाकर पिता पारस और माँ सुनीता घबड़ा गए। रेलवे कर्मचारी, पुलिस , ठेले गुमटी आदि सभी से पूछा, कंही कुछ पता नही चला। पुलिस ने तलाश शुरू की। स्टेशन के पीछे राजघाट की ओर जाने वाले ढलान पर बच्ची की लाश मिली।

काशी स्टेशन पर आदमपुरा थाने की पुलिस और रेलवे पुलिस बल के लोग कार्यक्रम स्थल पर आए और कहा भी की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है और अपराधी को पकड़ने में कोई कसर छोड़ी नही जाएगी।

मृत बच्ची की बड़ी मां ने बताया कि 5 दिन से उसके पति को थाने में रखा गया है। रोज कहते है कि शाम तक छोड़ देंगे लेकिन आज 5 दिन हो गए , भतीजी के हत्यारे को।पकड़ना तो दूर , उल्टे मेरे पति को ही बन्द करके रखा है। यंहा हमारी कोई सुनवाई नही हो रही है। मरी हुई बच्ची का पोस्टमार्टम रिपोर्ट बल7 एफआईआर का कॉपी तक नही मिला है आजतक।

दखल सँगठन के बैनर पर निम्नलिखित मांगो के समर्थन में स्टेशन पर आ जा रहे यात्रियों ने हस्ताक्षर किया।
1 – हत्यारों को जेल भेजा जाए।
2 – दुष्कर्म की पुष्टि के लिए स्वैब और बिसरा की जाँच हो।
3 – गरीब माँ बाप को मुवावजा मिले।
4 – काशी स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरा सहित अन्य सुरक्षा उपाय दुरुस्त किये जाएं।

अभियान के प्रमुख रूप से नीति , डॉ इंदु पांडेय, मैत्री, संतोष कुमार, शिवांगी, दीक्षा, धनञ्जय, अनुज, और अश्वनी सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे।

Letyshops [lifetime] INT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here